Happy Holi – 2018


When Is Holi In 2018 ? 
तो दोस्तो अब इंटरनेट पर काफी लोगो ने यह सवाल सर्च किया है क्योंकि हमारे देश में सभी त्योहारों को खुशियों से मनाया जाता है लोग इन त्योहारों का व्याकुलता से इंतजार करते है। मित्रों, 2018 में होली वीरवार 1 मार्च और शुक्रवार 2 मार्च को है। होली मुबारक!

दोस्तो हम लोग त्योहार तो हर साल मनाते है मगर कभी थोड़ा करीब से नहीं जाना इन त्योहारों को, तो आइए आज हम थोड़ा जान ही लेते है होली की कहानी और जानते है इसके बारे में और भी मज़ेदार बातें।

होली (Holi) एक भारतीय और नेपाली लोगों का त्योहार है जिसे हर वर्ष वसंत ऋतु में मनाया जाता है। यह उत्सव हिंन्दू पंचाग के अनुसार फाल्गुन मास की पुर्णिमा के दिन मनाया जाता है। होली, रंगों का त्योहार कहलाने वाला यह उत्सव दो दिन तक खुशियों से मनाया जाता है। भारत से बाहर, विदेश में रह रहे हिंन्दू लोग भी होली को बड़े धूम धाम से मनाते है।
holi in hindi, lord krishna, story india
Pic Credit : By इसका मूल अपलोड करने वाला फ़्रेंच Wikipedia पर Nataraja है। – http://www.sscnet.ucla.edu/southasia/Culture/Festivals/Festivim.htmlLe site : http://www.sscnet.ucla.edu/southasia/index.html est une section d’une site universitaire sur la culture indienne.L’image est présente aussi à : http://www.vishwabhavan.org/khholiarticle.htmOriginally from fr.wikipedia; description page is/was here., Public Domain, https://commons.wikimedia.org/w/index.php?curid=1751367

होलीका इतिहास – History Of Holi
होलीभारत का एक प्राचीनपर्व है जो होली, होलिका या फिर हालाकाके नाम से जाना जाताहै। वसंत ऋतु में मनाये जाने के कारण इसपर्व को लोग वंस्तोत्सवऔर काममहोत्सव भी कहते है।
इतिहासकारोंमानते हैं कि आर्यों मेंभी होली का प्रचलन थामगर ज्यादातर यह पर्व पुर्वीभारत में ही मनाया जाताथा। इस पर्व काउल्लेख कई पुरातन धार्मिकपुस्तकों से भी प्राप्तहुआ है, इनमें सबसे प्रमुख है जैमिनी केपूर्व मीमांसासुत्र कथा गाह्रासुत्र| नारद पुराण भविष्य पुराणजैसे प्राचिन हस्तलिपियों और ग्रंथों मेंभी इसका उल्लेख पाया गया है।

इसकीअन्य जानकारी आपको विकिपिडिया पर मिल जायेगी।

कैसे मनाते है ? 
दरअस्ल, पहले दिन होलिका को जलाया जाता है, जिसको हम सभी होलिका दहन के नाम से भी जानते है। दुसरे दिन लोग रंगो से खेलते है, एक दुसरे को रंग लगा कर होली मनाते है ढोल बजा कर व आस पास के घरों में जाकर सबको रंग लगाये जाते हैं। इस अवसर पर लोग होली के गीत भी गाते है। माना जाता है कि इस उत्सव में लोग अपनी सभी पुरानी कड़वी बातें भुला कर सबसे दोबारा दोस्ती करते हैं, नाच गाना व ढोल नगाड़ा ये सब दोपहर तक चलता है उसके बाद सभी अपने अपने घर लौट कर नहाकर नये कपड़े पहनते है और एक दुसरे के घरों में जाकर गले मिलते हैं और मिठाइयां खिलाते है।

दोस्तो होली के पिछे तरह तरह की कहानियां जुड़ी हुई है, जैसे कि – राधा और कृष्ण की कथा में भी इसका उल्लेख मिलता है, शिव पार्वती और कामदेव की कथा, प्रह्लाद और होलिका की कथा, कंस और पुतना की कथा, राक्षसी ढुंढी की कथा इत्यादि। होली भारत के सबसे पुराने पर्वों में से एक माना जाता है, कितनी पुरानी है इसके विषय में ठिक जानकारी नहीं है।
यदि आप इन सभी कहानियों को पढना चाहते हैं तो कॉमेंट में बतायें हम जल्द से जल्द आपके लिये यह सभी कहानियां लेकर आयेंगे। दोस्तोहोली तो मनायेंगे हीमगर Sefty Points मत भुलना। मैंआपको कुछ Sefty Points बता रहा हूं कृपया अपना ख्याल रखें।

Sefty Points For Holi:
(1) अपनेकपड़ों का विशेष ध्यानरखें।
(2) अपनेशरीर की त्वचा काख्याल रखें, ज्यादा रंग और अंनजान किस्मके रंगों से दूर रहें।
(3) गहरेरंग के कपड़े पहनना, वरना लोग आप के ऊपरजब पानी की बाल्टी फेंकेंगेतो एैसा ना हो किइज्जत की वाट लगजाये। 😀
(4) ज्वेलिरीमत पहनना, चाहे कुछ भी हो जाये।क्योंकि होली में रंग लगाते समय ध्यान नहीं रहता किसी चिज़ का, मान लो कहीं गिरगये तो फिर मतरोना। क्योंकि गहने जब गिरते हैतो वो दोबारा सिर्फकिस्मत वालो को ही मिलतेहै, अरे भई इतने किस्मतवाले तो मुझे लगतेनहीं आप। चलो कोई बात नहीं मगर ध्यान रखना।
(5) रंगलगने से पहले अपनेबालों में तेल की मसाज जरुरकरें। इससे आपके बाल सुरक्षित रहेंगे।
(6) यदिआपके बच्चे हैं तो खुद सेज्यादा उनका ध्यान दे उनको ज्यादारसायनों वाले रंगों से थोड़ा दूरही रखें, जैसे किहरा, बैंगनी, नारंगी आदि आप उन्हे लालया गुलाबी रंग दे सकते हैक्योकि इसमे रसायनों की मात्रा कमहोती है।
(7) आंखोमें में रंग चले जाने पर तुरंत पानीसे धोयें।

धन्यवाद।

अगरआपको पोस्ट पसंद आई हो तोअपने मित्र और परिवार वालोंको भी इस पोस्टकी लिंक शेअर करें ताकि होली से पहले उन्हेभी इसकी जानाकारी मिल सके। मुझे फेसबुक पर फ़ोलो औरहमारा ऑफिशियल फेसबुक पेज़ लाइक करना भुलें। Happy Holi 
One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *